Ads By Google info

ताजा खबरें
Loading...
विज्ञापन
Ads By Google info

अनमोल विचार

Subscribe Email

ताजा लेख आपके ईमेल पर



पसंदीदा लेख

दुनिया का सबसे अनोखा 1001 छिद्र वाला शिवलिंग है यहां

print this page
    रीवा: महामृत्युंजय! जिनके नाम लेने मात्र से मौत भी कांप जाती है। शिव रूप में भगवान महामृत्युंजय का मंदिर मध्य प्रदेश के रीवा जिले में है। रीवा रियासत के किला परिसर में स्थित है। यह दुनिया का इकलौता मंदिर है। जहां 1001 छिद्र वाला सफेद रंग का शिवलिंग है। जिसकी खासियत है कि मौसम के साथ रंग बदल जाता है। कहा जाता है रीवा रियासत की स्थापना के पीछे महामृत्युंजय की अलौकिक शक्ति है। 
एक रोचक प्रसंग है
 बांधवगढ़ से राजा शिकार के लिए आए थे। शिकार के दौरान राजा ने देखा कि एक शेर चीतल को दौड़ा रहा है। जब वह मंदिर वाले स्थान के समीप आया तो शेर चीतल का शिकार किए बगैर भाग गया। राजा यह देखकर हैरत में पड़ गए। राजा ने उस स्थान पर खुदाई कराई। गर्भ में महामृत्युंजय भगवान का सफेद शिवलिंग निकला। जहां मंदिर का निर्माण कराकर पूजा-अर्चना शुरू हो गई। वैसे तो प्रदेश में महाकालेश्वर और मंडलेश्वर मंदिर प्रसिद्ध हैं लेकिन दुनिया का यह एकमात्र मंदिर है जहां भगवान भोलेनाथ के दर्शन महामृत्युंजय के रूप में होते हैं। शिव पुराण में सफेद शिवलिंग का जिक्र महामृत्युंजय मंत्र के जाप से अकाल मृत्यु टल जाती है। ऐसा मानते हैं। सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है। महामृत्युंजय मंदिर के निर्माण और मूर्ति स्थापना का वैसे कोई लिखित इतिहास नहीं है लेकिन महामृत्युजंय मंत्र का शिव पुराण में उल्लेख मिलता है।
 एक मान्यता ऐसी भी... 
लोक मान्यता है कि अगर एक साथ इन हजार नेत्रों की दृष्टि यदि शिवभक्ति पर पड़ जाए तो उसकी सभी इच्छाएं पूरी हो जाती है। भय, बाधा, रोग दूर करने और मनोकामना पूरी करने के लिए यहां नारियल बांधा जाता है और बेल पत्र चढ़ाए जाते हैं। रोग और मृत्यु के मुंह से कैसे बचा लेता है महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव को कालों का काल महाकाल कहा जाता है। मृत्यु अगर निकट आ जाए और आप महाकाल के महामृत्युंजय मंत्र का जप करने लगे तो यमराज की भी हिम्मत नहीं होती है कि वह भगवान शिव के भक्त को अपने साथ ले जाए। इस मंत्र की शक्ति से जुड़ी कई कथाएं शास्त्रों और पुराणों में मिलती है जिनमें बताया गया है कि इस मंत्र के जप से गंभीर रुप से बीमार व्यक्ति स्वस्थ हो गए और मृत्यु के मुंह में पहुंच चुके व्यक्ति भी दीर्घायु का आशीर्वाद पा गए। यही कारण है कि ज्योतिषी और पंडित बीमार व्यक्तियों को और ग्रह दोषों से पीड़ित व्यक्तियों को महामृत्युंजय मंत्र जप करवाने की सलाह देते हैं। 
        अब अगर आपके मन में यह सवाल आ रहा है कि यह मंत्र किस तरह काम करता है तो इसका वैज्ञानिक पहलू भी सामने आया है, इसे भी जान लीजिए। विज्ञान की मानें तो ध्वनि और कुछ नहीं विद्युत् का एक रूपान्तरण मात्र है। योगीजन कहते हैं कि विद्युत् ध्वनि अर्थात शब्द स्फोट का रूपांतरण है। अब यह तथ्य सामने आ रहा है कि दोनों का परस्पर रूपांतरण हो सकता है। सेंटर फॉर स्पिरिचुअल एड योगा, चेन्नई के योगी पीआर सहस्रबुद्धे ने अपने शोधकेंद्र में कुछ प्रयोग किए और पाया कि मंत्रों के जप से वाकई फायदा होता है। एक प्रयोग महामृत्युंजय मंत्र को ले कर था। इस बारे में लोगों की उम्मीद रहती है कि मंत्र असाध्य रोगों को ठीक कर देता है। पर योगी सहस्रबुद्धे का मानना है और अनुभव भी कि मंत्र रोगों से मुक्त करा सकता है, पर हमेशा नहीं। वह तभी सहायक होता है, जब उसकी शक्ति को जगाया जाए। प्रयोग के दौरान कुछ बाधाएं आती हैं। इन बाधाओं की वजह पारंपरिक भाषा में आसुरी शक्तियां बताई जाती हैं, जबकि सहस्रबुद्धे के अनुसार मंत्र साधना से अपने चित्त में छाए संस्कार घुलने साफ होने लगते हैं। 
     ये संस्कार चित्त और चेतना में कुछ इस तरह घुले होते हैं, जैसे किसी कमरे में महीनों से गंदगी फैली हो और सफाई के दौरान वह एक साथ बाहर होने लगे तो आसपास कुछ देर के लिए स्थितियां अस्त व्यस्त होने लगे। योगशास्त्र के जानकारों के अनुसार शरीर की आंतरिक रचना मे चौरासी ऐसे केंद्र हैं, जहां प्राण ऊर्जा सघन और विरल रूप में मौजूद रहती है। इन केद्रों को योग की भाषा में उपत्यका कहते हैं। रोग और विक्षोभ इन्ही उपत्यतकाओं से पैदा होते हैं। जप के दौरान महामृत्युजंय मंत्र की ध्वनि इन केंद्रों को सक्रिय करती है। सहस्रबुद्धे के प्रयोगों की भाषा में कहें तो उन केंद्रों पर पहुंच कर ध्वनि विद्युत तरंगों को विचलित करती हैं। रोग का उपचार या मल विकारों का शोधन उन तंरगों से ही होता है। सत्तर प्रतिशत संभावना तो यह रहती है कि रोग ठीक हो जाए। तीस प्रतिशत मामलों में रोग का उभार बढ़ जाता है और रोगी का जीवन खतरे में पड़ जाता है। अर्थात रोग या तो ठीक हो जाता है या रोगी की चेतना शरीर छोड़ जाती है। 
       पंरपरागत भाषा में महामृत्युंजय मंत्र का प्रभाव रोगी को मृत्यु के भय से मुक्त कर देता है। रोग ठीक हो जाए तो भी मृत्यु का भय मिट जाता है और ठीक नहीं हो तो रोगी की जीवनी शक्ति शरीर छोड़ कर चली जाती है। इस तरह भी रोगी मृत्यु के भय से मुक्त हो जाता है। मंत्रयोगी पं.श्यामसुंदर दास के अनुसार परिणाम जो भी हो. महामृत्युंजय मंत्र जीवन चेतना को प्रखर करता है।

rewa-shiv-lingam-is-the-world-most-unique-1001-holes-here-in-दुनिया का सबसे अनोखा 1001 छिद्र वाला शिवलिंग है यहां
Edited by: Editor

1 comments:

January 7, 2016 at 3:52 PM

Bahot acchi jankari hai Shashtriji.

 
{[[''],['']]}

आपके विचार

हिंदी में यहाँ लिखे
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान


ऐसा भी होता है?

धार्मिक स्थल

 
Editor In Chief : Dr. Umesh Sharma
Copyright © Asha News . For reprint rights: ASHA Group
My Ping in TotalPing.com www.hamarivani.com रफ़्तार www.blogvarta.com BlogSetu