Ads By Google info

ताजा खबरें
Loading...
विज्ञापन
Ads By Google info

अनमोल विचार

Subscribe Email

ताजा लेख आपके ईमेल पर



पसंदीदा लेख

जानिए धनु राशि में शनिदेव के आगमन का आपकी राशि पर प्रभाव

print this page
Know-your-zodiac-impact-of-the-arrival-of-Saturn-in-Sagittarius-जानिए धनु राशि में शनिदेव के आगमन का आपकी राशि पर प्रभावशनि देव, 26 जनवरी, 2017 को लगभग 21:34 बजे वृश्चिक राशि से धनु राशि में गोचर/प्रवेश करेगा/करने जा रहे है । धनु राशि के स्वामी देव गुरु बृहस्पति है , गोचर का प्रभाव ज्योतिष शास्त्र में चंद्र राशि पर आधारित होता है , राशियों के हिसाब से यह उतना अधिक सटीक नहीं होता है जितना वास्तविक प्रभाव आपकी व्यक्तिगत जन्मकुंडली में जन्म के समय ग्रहों के गोचर और ग्रहो के शुभ अशुभ पराभव पर निर्भर करता है। अतः आप अपनी जन्म कुंडली के आधार पर ही कोई उपाय करे।शनि की कुल दशा 19 वर्ष होती है और इसके अलावा साढ़ेसाती तथा दो ढैय्या का समय जोड़ा जाए तो शनि किसी के भी जीवन को लगभग 31 साल तक प्रभावित करता है। 
               शनि 30 वर्ष में उसी राशि में पुन: लौटता है। इसी लिए किसी के जीवन में तीन से अधिक बार साढ़ेसाती नहीं लगती। अक्सर एक व्यक्ति 3री साढ़ेसाती के आस पास परलोक चला जाता है। यही कारण है कि जीवन में अधिकतर उपाय शनि के ही किए जाते हैं। शनि को ग्रहों में सर्वोच्च न्यायाधीश कहा गया है जो अनुचित कार्य करने वालों को समय आने पर दंड देता है। शनि को सूर्य पुत्र भी कहा जाता है परंतु जब कुंडली में यह दोनों ग्रह ,एक ही भाव में हों या परस्पर दृष्टि संबंध हो तो अनिष्ट फल देते हैं। यह वह ग्रह है जो राजा को रंक बना देता है और जमीन से आसमान पर भी ले जाता है। यह शत्रु भी है और मित्र भी। शुक्र की राशि तुला में शनि उच्चस्थ होते हैं और मेष में नीचस्थ। जिस भाव में बैठते हैं उसका भला करते हैं परंतु 3री, 7वीं और 10वीं दृष्टि से अनिष्टता प्रदान करते हैं। कभी एक परिमाण से फलादेश का परिणाम नहीं देखा जाता। 
          ग्रहो का गोचर लिखते समय स्थान और देश का भी ध्यान रखना चाहिए इस समय हम शनि देव का गोचर भारत वर्ष के दिल्ली शहर से कर रहे है विभिन्न देशो में उसके आक्षांस और देशांतर को भी ध्यान में रखना चहिये जैसे भारत वर्ष में शनि देव का धनु राशि में गोचर 26 जनवरी 2017 को रात्रि 10 :40 बजे कर रहे है , साथ ही शनि देव धनु राशि में 6 अप्रैल 2017 को वक्री हो जायेगे जब कोई ग्रह वक्री होता है तो उसकी चाल उल्टी जो जाती है जिससे शनि देव का गोचर धनु राशि से वृश्चिक राशि में 21 जून 2017 को होगी ,वृश्चिक राशि में शनि देव 25 अगस्त 2017 को मार्गी होंगे और धनु राशि में पुनः प्रवेश 26 अक्टूबर 2017 को करेगे इसके उपरांत वह 24 जनवरी 2020 को धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेगे। शनि देव की चाल बहुत ही मंद गति से होती है धनु राशि में यह 2.5 साल रहने के बाद 24 जनवरी, 2020 को मकर राशि में प्रवेश करेगे ।
वृश्चिक राशि से धनु राशि में प्रवेश करने से मकर राशि के जातकों के लिए शनि की साढ़े साती प्रारम्भ हो जाएगी । वृश्चिक राशि वाले जातको के लिये यह अंतिम चरण की साढ़े साती होगी तथा तुला राशि वाले जातक साढ़े साती से मुक्त हो जायेंगे। शनि के धनु राशि मे आते ही कन्या राशि के जातको की लघु कल्याणि ढ्य्या आरम्भ होगी तथा वृष राशि वाले जातको की अष्ठम शनि की ढ्य्या आरम्भ हो जायेगी।
================================================================ 
रोग, शोक और संकटों को दूर करने वाले शनि देव का राशि परिवर्तन सभी राशि के जातकों को प्रभावित करेगा। ढैया और साढ़ेसाती से पीड़ित राशियों के जातकों के जीवन में हलचल मच सकती है। कहते हैं कि साढ़ेसाती के समय न्याय प्रिय ग्रह शनि व्यक्ति को उसके पूर्व जन्म व वर्तमान में किए गए शुभ और अशुभ कर्मों का फल देते हैं। इसलिए कुछ लोगों को यह समय बहुत ही सुखदायी तो कुछ के लिए बहुत ही कष्टदायी होता है। 
========================================================== 
क्या होती है शनि की साढ़ेसाती व शनि की ढैया---- 
आमतौर पर शनि एक राशि पर ढाई वर्ष तक रहते हैं। जिस राशि में शनि प्रवेश करते हैं उस राशि में और उससे पहले एवं बाद की राशि वाले व्यक्ति को अधिक प्रभावित करते हैं। शनि की इस स्थिति को साढ़ेसाती कहा जाता है। किसी व्यक्ति की राशि से शनि जब चौथे या आठवें घर में होते हैं तो उनकी ढैया होती है। साढ़ेसाती की तरह ढैया को भी कष्टकारी माना जाता है। ढैया कुल ढाई साल की होती है। 
 शनि की साढ़ेसाती व शनि की ढैया की शांति के उपाय--- 
पण्डित"विशाल" दयानन्द शास्त्री के अनुसार जिन राशि वालों के लिए शनि की ढैया या साढ़ेसाती चल रही हो उन्हें सुन्दरकांड, रामायण या हनुमान चालीसा का नित्य पाठ तथा शनि का व्रत करना चाहिए। शनिवार को प्रात:काल पीपल के वृक्ष में जलदान तथा सायंकाल दीपदान करना चाहिए। काले घोड़े की नाल की अंगूठी शनिवार को मध्यमा अंगुली में धारण करनी चाहिए। शनिवार का व्रत तथा शनि का दान करना चाहिए। 
================================================================ 
शनि की ढैय्या --- 
मेष राशि पर शनि का अष्टम ढैय्या,वही 2 नवम्बर से आरंभ है और लगभग अढ़ाई साल रहेगा। इस राशि के लोगों के खर्चे बढ़ सकते हैं। सिंह राशि में चतुर्थ ढैय्या शुरू हुआ है जो 26 अक्तूबर ,2017 तक रहेगा। कुल मिला कर तुला राशि की साढ़ेसाती की अवधि 9 सितम्बर,2009 से 26 अक्तूबर 2017 तक है। वृश्चिक में इसका प्रभाव 15 नवम्बर 2011 से आरंभ हुआ है और 24 जनवरी 2020 तक रहेगा। इसी प्रकार धनु राशि की साढ़ेसाती जो 2 नवम्बर 2014 से शुरु हुई है, वह 17 जनवरी 2023 तक रहेगी। 
          इन राशियों या इनसे संबंधित तिथियों के अलावा यदि कोई आपको साढ़ेसाती या ढैय्या के बारे कुछ और बताता है तो वह गलत है। 2017 वर्ष मे शनि का गोचर बहुत अस्थिर रहेने वाला है क्योकि यह कुछ समय के लिये वक्री हो कर पुनः वृश्चिक राशि मे आ जायेगा और दोबारा लगभग ऑक्तूबर तक मार्गी होकर धनु राशि मे प्रवेश करेगा । शनि का गोचर केवल चंद्र राशि से 3,6,11 भावो मे ही शुभ फल देता है इस प्रकार शनि के धनु राशि मे आने से कुम्भ ,वृष तथा तुला राशि के जातको को शुभ फल मिलने सम्भव है । 
================================================================= 
जानिए शनिदेश का प्रभाव --- 
शनि देव एक न्याय प्रिय ग्रह है ,शनि के नक्षत्र हैं,पुष्य,अनुराधा, और उत्तराभाद्रपद.यह दो राशियों मकर, और कुम्भ का स्वामी है। तुला राशि में २० अंश पर शनि परमोच्च है और मेष राशि के २० अंश प परमनीच है नीलम शनि का रत्न है।शनि की तीसरी, सातवीं, और दसवीं द्रिष्टि मानी जाती है। आपकी कुंडली में शनि किस भाव में है, इससे आपके पूरे जीवन की दिशा, सुख, दुख आदि सभी बात निर्धारित हो जाती है। किसी अच्छे ज्योतिषाचार्य से अपनी जन्मकुंडली दिखा कर ही उपाय करे । भारतीय ज्योतिष में शनि को नैसर्गिक अशुभ ग्रह माना गया है। शनि कुंडली के त्रिक (6, 8, 12) भावों का कारक है। पाश्चात्य ज्योतिष भी है। 
        अगर व्यक्ति धार्मिक हो, उसके कर्म अच्छे हों तो शनि से उसे अनिष्ट फल कभी नहीं मिलेगा। शनि से अधर्मियों व अनाचारियों को ही दंड स्वरूप कष्ट मिलते हैं। शनि सूर्य,चन्द्र,मंगल का शत्रु है , बुध,शुक्र को मित्र तथा गुरु को सम मानता है। शारीरिक रोगों में शनि को वायु विकार,कंप, हड्डियों और दंत रोगों का कारक माना जाता है, रोग , शोक ,भय , दंड , न्याय , धन , कर्ज , दुःख , दारिद्र्य , सम्पन्नता और विपन्नता , असाध्य रोग , अत्यंत सज्जनता और दुर्दांत अपराधी , अति इमानदार और अत्यंत धोखेबाज इत्यादि का कारक शनि देव को माना गया है।
 ये होगा शनि देव का धनु राशि में गोचर का प्रभाव ---- 
शनि देव के धनु राशि में गोचर का देश दुनिया पर व्यापक प्रभाव देखने को मिलेगा , इस प्रभाव के तहत विभिन्न देशों के राजनीतिक हलकों, उच्च शिक्षा से जुड़े विभिन्न संस्थान, धर्म, धार्मिक स्थल, दुर्घटना , दैवीय आपदा के साथ राजनितिक उथल पुथल देखने को मिलेगी। जब गोचर शनि चंद्र लग्न से चैथे, सातवें और दसवें स्थान में जाता है, तो उसे कंटक शनि कहते है तब साधारण रूप से कंटक शनि मानसिक दुःख की वृद्धि करता है, जीवन को अव्यवस्थित बनाता है और इस कारण नाना प्रकार के दुःखों का सामना करवाता है। जब गोचर का शनि चंद्र लग्न से चैथे स्थान में होता है, तब जातक के निवास स्थान में अवश्य ही परिवर्तन होता है और उसका स्वास्थ्य भी बिगड़ जाता है।
         चंद्र लग्न से जब गोचर का शनि सातवें स्थान में होता है, तब जातक का परदेश वास होता है और यदि वह सप्तम स्थान पर चर राशि का हो, तो यह फल अवश्य ही होता है। चंद्र लग्न से यदि गोचर का शनि दसवें स्थान में होता है, तब जातक के व्यवसाय एवं नौकरी आदि में गड़बड़ी होती है और असफलताएं मिलती हैं। इस प्रकार कुंडली में स्थित अशुभ शनि के प्रभाव, गोचर शनि के दुष्प्रभाव तथा दशा-अंतर्दशाओं में होती है 
-------------------------------------------------------------------------------- 
जानिए किस राशि पर कट होगा प्रभाव शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का :- 
शनि साढ़े साती की गणना चंद्र राशि के अनुसार अर्थात जन्म के समय जिस राशि में चंद्रमा होता है उससे वर्तमान में अर्थात गोचर में शनि की स्थिति के अनुसार होती है अर्थात जन्म कालिक चंद्र राशि से गोचर भ्रमण के दौरान शनि जब द्वादश भाव में आता है तो “साढ़े साती” का प्रारंभ हो जाता है और चंद्र राशि तथा चन्द्र राशि से दूसरे भाव में जब तक रहता है तब साढ़े साती बनी रहती है और जब तीसरी राशि में प्रवेश करता है तो साढ़े साती समाप्त हो जाती है। इस समय शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव तुला , वृश्चिक और धनु राशि पर है। मकर राशि के जातकों के लिए “शनि साढ़े साती” प्रारम्भ हो जाएगी| तुला राशि पर शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव अंतिम चरण है जो 26 जनवरी 2017 को समाप्त हो जाएगा। परंतु शनि की चाल वक्री व मार्गी होने के कारण तुला राशि वालों को इस प्रभाव से पूरी तरह मुक्ति 26 अक्तूबर 2017 को ही मिलेगी। तुला राशि की साढ़ेसाती की अवधि 9 सितम्बर,2009 से 26 अक्तूबर 2017 तक है |
 वृश्चिक राशि :- इस राशि पर साढ़ेसाती 15 नवम्बर 2011 को आरंभ हुई थी और 2 नवम्बर 2014 से दूसरा चरण आरंभ हो गया है। यहां शनि अपनी शत्रु राशि में नीच चंद्रमा के साथ रहेगा। वृश्चिक में इसका प्रभाव 15 नवम्बर 2011 से आरंभ हुआ है और 24 जनवरी 2020 तक रहेगा। धनु राशि वालों की साढ़ेसाती 2 नवंबर 2014 को आरंभ हुई है यानी इसका प्रथम चरण शुरू हो चुका है। धनु राशि की साढ़ेसाती जो 2 नवम्बर 2014 से शुरु हुई है, वह 17 जनवरी 2023 तक रहेगी। 
---------------------------------------------------------------- 
जानिए किस राशि पर होगा शनि की ढैय्या का प्रभाव---- 
 वर्तमान में शनि देव की ढैया का प्रभाव मेष , सिंह राशि पर रहेगा , मेष राशि पर शनि का अष्टम ढैय्या,वही 2 नवम्बर से आरंभ है और लगभग अढ़ाई साल रहेगा। इस राशि के लोगों के खर्चे बढ़ सकते हैं। सिंह राशि में चतुर्थ ढैय्या शुरू हुआ है जो 26 अक्तूबर ,2017 तक रहेगा। 
----------------------------------------------------------------
 जानिए शनि देव का धनु राशि में गोचर का सभी राशियों पर क्या होगा प्रभाव - 
 शनिदेव किसी के जीवन में क्या फल देगा, शुभ प्रभाव होंगे या अशुभ , इसका विवेचन, कुंडली के 12 भावों, 12 राशियों,27 नक्षत्रों, शनि की दृष्टि, उसकी गति, वक्री या मार्गी स्थिति, कारकत्व, जातक की दशा, गोचर , साढ़ेसाती या ढैय्या, ग्रह के नीच, उच्च या शत्रु होने या किसी अन्य ग्रह के साथ होने , ग्रह की डिग्री ,विशेष योगों, कुंडली के नवांश आदि के आधार पर किया जाता है, केवल एक सूत्र से नहीं। शुक्र की राशि तुला में शनि उच्चस्थ होते हैं और मेष में नीचस्थ। जिस भाव में बैठते हैं उसका भला करते हैं परंतु 3री, 7वीं और 10वीं दृष्टि से अनिष्टता प्रदान करते हैं। केवल राशियों के फलादेश से परिणाम नहीं देखा जाता क्योंकि कुल 12 रशिया है और 1 ही नाम से 12 करोड़ से अधिक लोग आते है कोई राजा है कोई रंग है कई महलो में रह रहे है कई खुले आसमान में कई लोग जेल में है तो कई हॉस्पिटलों में अपने कर्म भोग रहे है इसलिए ग्रहों का गोचरीय प्रभाव अपनी जन्म पत्रिका ही जाने। 
जानिए आपकी राशि पर कैसा होगा शनि का असर--- 
  1. मेष: इस राशि वालों के लिए पूरा साल उठापटक व अस्थिरता वाला रहेगा। स्वास्थ्य ठीक रहेगा, लेकिन नौकरी व व्यवसाय में बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। 
  2. वृष: इस साल बीमारियां बार-बार परेशान करेंगी। बनते हुए काम में बार-बार रुकावटें आएंगी। नौकरी व व्यवसाय की स्थिति भी अच्छी नही रहेगी। 
  3. मिथुन: धन प्राप्ति के योग बनेंगे। खर्च भी ज्यादा होगा। घर-परिवार में सुख-शांति का माहौल होगा। परिवार व मित्रों से पूरा सहयोग मिलेगा। 
  4. कर्क: छठवें भाव का शनि मध्यम फल देगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। संतान व परिवार की ओर से परेशानी हो सकती है। बिजनेस बढ़ाने की योजना पर काम होगा। 
  5. सिंह: इस राशि के लिए उम्मीदों से भरा साल होगा। स्वास्थ्य अच्छा होगा। पुराने रोगों से मुक्ति मिलेगी। विवादों का निबटारा होगा। रुका हुआ पैसा मिल सकता है। 
  6. कन्या: कन्या राशि वालों के लिए यह साल चुनौतियों से भरा होगा। छोटे-छोटे कामों के लिए भी पूरी कोशिश करनी पड़ेगी। बैंक बैलेंस में कोई खास इजाफा नही होगा। 
  7. तुला: इस राशि वालों को शनि मिश्रित फल देगा। स्वास्थ्य ठीक रहेगा, लेकिन पैसों को लेकर उठापटक करनी पड़ सकती है। काम का दबाव ज्यादा रहेगा। 
  8. वृश्चिक: इस राशि के लिए यह साल कुछ खास नही रहेगा। नौकरी और बिजनेस में चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। स्टूडेंट्स को उनकी मेहनत का फल मिलेगा। 
  9. धनु: हेल्थ को लेकर समस्याएं रहेंगी साथ ही बिजनेस में भी नुकसान उठाना पड़ सकता है। मेहनत के मुताबिक परिणाम नही मिलेंगे। फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। 
  10. मकर: व्यर्थ की यात्रा। बिजनेस में उतार-चढ़ाव। नया घर खरीदने का मन बन सकता है। दुश्मन नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेंगे। नौकरी में प्रमोशन के चांस बन सकते हैं। 
  11. कुंभ: आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर होगी। इनकम के सोर्स बनेंगे। परिवार व दोस्तों के सहयोग से तरक्की मिल सकती है। परिवार में कोई शुभ प्रसंग आ सकता है। 
  12. मीन: बिजनेस में सफलता के योग। नौकरी में प्रमोशन मिल सकता है। अजनबी लोगों पर भरोसा न करें। कोई अपना ही आपको धोखा दे सकता है। विरोधी परास्त होंगे। 

=============================================================== 
इन उपायों से होगा लाभ--- 
जब भी जीवन में शनि की दशा हो या शनि अगोच्रस्थ हो तो सुन्दर काण्ड का पाठ.हनुमान और शनि चालिसा का पाठ, दशरथ कृत शनि स्त्रोत्र का पाठ ,शनि मन्दिर मे पूजन दान,तिल, सरसो तेल से शिवलिगँ का अभिषेक , महामृत्युन्जय जप ,शनि के मँत्र का जप,माँ काली ,कालरात्री की पूजा,कुता , कोऑ, कबुतर, चीटीँ और गाय को नियमित भोजन दे ,श्री कृष्ण की पूजन , ,अमावस्या की पूजा की पूजा दान,छाता या जूते का दान करना इनमें से कोई भी उपाय नियमित रूप से करने से शनि के अशुभ प्रभावो में कमी आती है ।
Edited by: Editor

आपके विचार

हिंदी में यहाँ लिखे
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान


ऐसा भी होता है?

धार्मिक स्थल

 
Editor In Chief : Dr. Umesh Sharma
Copyright © Asha News . For reprint rights: ASHA Group
My Ping in TotalPing.com www.hamarivani.com रफ़्तार www.blogvarta.com BlogSetu