Ads By Google info

ताजा खबरें
Loading...
विज्ञापन

अनमोल विचार

Subscribe Email

ताजा लेख आपके ईमेल पर



पसंदीदा लेख

जानिए इस वर्ष चैत्र नवरात्रि कब और क्यों मनाये

print this page

आजकल सोशल मीडिया में चैत्र नवरात्रि 2017 पर्व को लेकर बहुत चर्चा हो रही हैं कि इस वर्ष 28 मार्च को मनाएं या 29 मार्च 2017 को


आइये शास्त्रोक्त सत्य जानने का प्रयास करें ---
      ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया की भारतीय सनातन संस्कृति में संवत् यानि नए साल का शुभारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को होता है और इसी दिन हम लोग चैत्र नवरात्री का शुभारंभ भी करते है । संवत् 2074 में 28 मार्च 2017 मंगलवार के दिन नवरात्री में घट स्थापन किया जायेगा । क्योंकि भारतीय सनातन शास्त्रो में से धर्मसिन्धु और निर्णय सिंधु में इस बात का स्पष्ट उल्लेख किया हुआ है कि “नवरात्र आरम्भ प्रतिपदा के दिन किया जाता है अगर सूर्योदय के समय एक मुहूर्त से कम यही लगभग 48 मिन्ट से कम अगर प्रतिपदा हो तो जिस दिन अमावस्या हो उसी दिन घट स्थापना करना शात्रोक्त सही होता है“ और 29 मार्च 2017 को प्रतिपदा सवेरे 5 बज कर 45 मिन्ट पर समाप्त हो जायेगी और सूर्योदय 5 बज कर 36 मिन्ट पर होगा तो प्रतिपदा मात्र 9 मिन्ट ही रहेगी इसलिए नवरात्री का आरम्भ 28 मार्च 2017 को ही किया जायेगा ।


                   
          अतः आप सभी से मेरा (ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री) विनम्र निवेदन हैं की किसी भी भ्रम में रह कर 28 मार्च 2017 को ही नवरात्रि का आरम्भ करते हुए माँ जगदम्बा की स्थापना करे जो एकदम सही और शास्त्रोक्त है । क्योंकि कई लोग 29 मार्च को करवा रहे है वो एकदम गलत है ।निर्णय सागर पंचांग में स्पष्ट लिखा है कि धर्म-निर्णय सिंधु ग्रंथ के अनुसार 28 मार्च मंगलवार सुबह 8.26 के बाद प्रतिपदा तिथि शुरू होने से चैत्र नवरात्रि विधान और नूतन चैत्र नव वर्ष की मान्यता शास्त्र संवत रहेगी। लेकिन वर्ष के पहले सूर्योदय से सूर्य पूजा और नव वर्ष 29 को मनाया जाएगा।  
ऐसे लोगो से बचे और शास्त्रोक्त निर्णय के अनुसार काम करे जिससे आपको लाभ और आशीर्वाद मिले ।
ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार 28 मार्च 2017 चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से नववर्ष की शुरूआत होगी। ज्योतिष शास्त्र में इस दिन सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही गुड़ी पूजन का विशेष विधान बताया गया है। सूर्योदय के समय ही सूर्य को अर्घ्य देना चाहिये और फिर नीम मिश्री का सेवन किया जाये। ज्योतिषियों के अनुसार सूर्य को अर्घ्य प्रदान कर बारह नामों से सूर्य नमस्कार करें तथा वेद में दिये गये संवत्सर सूक्त का पाठ करने से श्रेष्ठ फल की प्राप्ति होती है।
         वर्ष 2017 में चैत्र (वासंती) नवरात्र व्रत 28 मार्च से शुरु होकर 5 अप्रैल तक रहेगें। व्रत का संकल्प लेने के बाद, मिट्टी की वेदी बनाकर ‘जौ बौया’ जाता है। इसी वेदी पर घट स्थापित किया जाता है। घट के ऊपर कुल देवी की प्रतिमा स्थापित कर उसका पूजन किया जाता है। इस दिन “दुर्गा सप्तशती“ का पाठ किया जाता है। पाठ पूजन के समय दीप अखंड जलता रहना चाहिएद्य
            ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया की नवरात्री की पहली तिथि पर सभी भक्त अपने घर के मंदिर में कलश स्थापना करते हैं। इस कलश स्थापना की भी अपनी एक पूजा विधि, एक मुहूर्त होता है। कलश स्थापना को घट स्थापना भी कहा जाता है। घट स्थापना का मुहूर्त प्रतिपदा तिथि (28 मार्च ) को प्रातः 08:26 बजे से 10:24 बजे तक है। इस समय के बीच ही घट स्थापना हो सकेगी।
    इसी अवसर पर सृष्टि रचियता ब्रह्माजी के साथ ही शिव विष्णु सहित आह्वान पूजन, ध्वज पूजन, कलश पूजन करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती हे।ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार इस दिन विक्रम संवत 2074 शुरू होगा तथा इस अवसर पर तीर्थ की पूजन के साथ ही सुबह 6 बजकर 27 मिनट पर सूर्य को अर्घ्य देने का विधान ज्योतिषियों द्वारा बताया गया है।

  1. 28 मार्चः नवरात्र का पहले दिन मां शैलपुत्री की आराधना होती हैं। इस दिन घटस्थापना का मुहूर्त सुबहर 8:26 से लेकर 10:24 तक का हैं। पूजा में इन्हें चमेली का फूल अर्पित करना शुभ होता हैं।
  2. 29 मार्च : नवरात्र के दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। इनकी पूजा में भी चमेली का फूल अर्पित करना शुभ माना जाता हैं।
  3. 30 मार्च : नवरात्र के तीसरे दिन देवी चन्द्रघंटा की पूजा होती हैं। इन्हें भी चमेली का फूल पसंद हैं।
  4. 31 मार्चः नवऱात्र के चौथे दिन मां दुर्गा के चौथे रूप देवी कूष्मांडा की पूजा होती हैं, जिन्हें लाल रंग के फूल पसंद हैं। 
  5. 1 अप्रैलः नवरात्र के पांचवा दिन माता स्कंदमाता की पूजा की जाती है। जिन्हें मां पार्वती के नाम से भी जाना जाता हैं। इन्हें पूजा में लाल रंग के फूल अर्पित करने चाहिए।
  6. 2 अप्रैलः चैत्र नवरात्र के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा का होती हैं। जिन्हें लाल रंग के फूल खासकर गुलाब का फूल अर्पित करें। 
  7. 3 अप्रैल : सातवें दिन यानि सप्तमी को मां कालरात्रि की पूजा होती हैं। जिन्हें रात की रानी का फूल पसंद हैं। 
  8. 4 अप्रैलः नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। इस दिन कई लोग कन्या पूजन भी करते हैं। 
  9. 5 अप्रैलः नववरात्र के अंतिम दिन राम नवमीं होती हैं। पूजा का मुहूर्त सुबह 11ः 09 ​से 1ः 38 तक का हैं।

           दो वर्ष बाद चैत्र नवरात्र नौ दिन 28 मार्च 2017 ( गुड़ी पड़वा) से 5 अप्रैल 2017 नवमी तक होंगे। वर्ष 2015 और 2016 में आठ दिन के थे। ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार इस बार नवमी को पुष्य नक्षत्र का शुभ योग भी रहेगा, क्योंकि भगवान राम का जन्म नवमी तिथि के दिन पुष्य नक्षत्र में ही हुआ था। 
        नवरात्र के पहले दिन प्रतिपदा मंगवार 28 मार्च सुबह 8.29 बजे शुरू होगी।  सुबह 9.31 बजे चर, लाभ और अमृत के चौघडिय़ा में घट स्थापना का शुभ मुहूर्त है। अभिजित मुहूर्त दोपहर 12.9 से 12.57 तक रहेगा। पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा-अर्चना की धूम रहेगी। ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार विक्रम नवसंवत्सर 2074 का प्रवेश सुबह 8.28 बजे से ही मेष लग्न में होगा। 

=============================================================================
जानिए कैसा रहेगा विक्रम नवसंवत्सर 2074 ???
    इस नवसंवत्सर का नाम साधारण है। इस वर्ष का राजा मंगल और मंत्री बृहस्पति हैं। हालांकि नव वर्ष का पहला सूर्योदय 29 मार्च को होगा। ऐसे में सूर्य पूजा और नव वर्ष 29 मार्च को ही मनाया जाएगा। 
मंत्री पद गुरु बृहस्पति के पास होने सामाजिक समरसता होगी बढ़ोतरी :--- 
ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार राजा मंगल, मंत्री बृहस्पति, शस्य सूर्य, धान्येश शुक्र, मेघेश-बुध, फलेश-बुध, धनेश-शनि, दुर्गेश-बुध होंगे। मंत्री पद गुरु बृहस्पति के पास होने से सामाजिक समरसता में बढ़ोतरी होगी। इस वर्ष देश-दुनिया में कृषि, विज्ञान, तकनीकी, अध्यात्म और पर्यटन में अच्छी उन्नति के आसार हैं। 
            चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से हिन्दू नववर्ष श्री संवत 2074 का शुभारंभ इस बार “28 मार्च 2017” प्रातः8ः27 “मेष लग्न” व वृश्चिक नवांश से हो रहा हैं जिसमे लग्न मे मंगल बुध,पंचम भाव मे राहू,छठे भाव मे वक्री गुरु,नवम भाव मे शनि,एकादश भाव मे केतू तथा द्वादश भाव मे सूर्य,चन्द्र व वक्री शुक्र स्थित हैं द्य
              लग्नेश मंगल का लग्न मे होना देश के लिए बहुत शुभता दर्शा रहा हैं जो देशवासियो के साहस व पुरुषार्थ द्वारा देश को आगे ले जाने के लिए प्रेरित कर रहा हैं संभव हैं की इस वर्ष भारत सरकार देश की रक्षा से संबन्धित कई बड़े सौदे व फैसले कठोरता से लागू करे द्य इस मंगल की दृस्टी चतुर्थ भाव व सप्तम भाव पर पड़ रही हैं जो देश के सुख व विदेश व्यापार भाव बनते हैं चूंकि इन दोनों भावो के स्वामी चन्द्र व शुक्र द्वादश भाव मे हैं जो स्पष्ट रूप से देश को विदेशो से बहुत लाभ होना बता रहे हैं द्य शुक्र चन्द्र दोनों चूंकि,कला,ग्लेमर,संगीत व   मनोरंजन के कारक भी होते हैं जो भारतीय फिल्मों व संगीत का पूरे विश्व मे इस वर्ष डंका बजना तय कर रहे हैं संभव हैं की भारतीय कला जगत के किसी व्यक्ति को कोई बड़ा पुरस्कार इस वर्ष विश्वस्तर पर मिल जाए जिससे भारत की कला व फिल्मजगत की ख्याति और बढे द्य
               इस वर्ष का लग्न भारत की वृष लग्न की पत्रिका का द्वादश भाव भी हैं जो इस वर्ष अर्थात 2017-2018 मे भारत को विदेशो से अच्छे समाचार,व्यापार,संधिया,लाभ व धन की प्राप्ति बता रहा हैं द्वादश भाव का स्वामी गुरु अपने भाव द्वादश के अतिरिक्त दसम भाव व धन भाव को भी दृस्ट कर स्पष्ट संकेत दे रहा हैं की सरकार द्वारा इस वर्ष विदेश नीति मे कोई बड़ा बदलाव किया जाएगा जिससे विदेशो से बहुत सा लाभ किसी ना किसी रूप मे देश को मिलेगा जो बड़े पैमाने मे धन के निवेश के रूप मे हो सकता हैं ( विदेश व्यापार का स्वामी व धन भाव का स्वामी शुक्र ऊंच अवस्था मे द्वादश भाव मे हैं )
          28/3/2017 को सूर्योदय के समय तिथि अमावस्या पड़ रही हैं और दिन मंगल वार पड़ रहा हैं क्यूंकी नववर्ष प्रातः 8ः27 पर आरंभ होगा जिससे शुक्ल प्रतिपदा तिथि अगले दिन सूर्योदय के समय मानी जाएगी जो बुधवार का दिन बनेगा इस कारण इस वर्ष का राजा बुध बनेगा द्य बुध नव वर्ष कुंडली मे तीसरे व छठे भाव का स्वामी होकर लग्न मे लग्नेश मंगल संग ही स्थित हैं और सप्तम भाव को देख रहा हैं जिसका स्वामी द्वादश भाव मे ऊंच का होकर बैठा हैं तथा नवांश मे भी यह बुध छठे भाव से द्वादश भाव को देख रहा हैं जो विदेशो से लाभ,विदेशो से कर्ज़ के अतिरिक्त कर्जमाफ़ी के साथ साथ पड़ोसियो विशेषकर चीन व पाकिस्तान से विवाद,घुसपैठ,अनावश्यक तनाव अथवा युद्ध आदि की पुष्टि भी करा रहा हैं ऐसा विशेषकर 15 मई से 15 अक्तूबर के बीच होना संभव जान पड़ता हैं
             पंचमेश सूर्य का द्वादश भाव मे होना देश की जनता का रुझान विदेशो के प्रति बढ़ने की तरफ इशारा कर रहा हैं वही द्वादश तथा नवम भाव के स्वामी गुरु के छठे भाव मे वक्री अवस्था मे होना विदेशी पर्यटको से संबन्धित कोई बड़ा विवाद होने के साथ साथ विदेशो मे रह रहे भारतीयो से संबन्धित कोई ना कोई परेशानी भी बता रहा हैं 
          दसम व एकादश भाव का स्वामी शनि नवम भाव मे होने से देश के राजा की विदेशी दौरो की पुष्टि कर रहा हैं स्पष्ट हैं की प्रधानमंत्री मोदी इस वर्ष भी कई बड़े देशो के अतिरिक्त पड़ोसी मुल्को की यात्रा भी करेंगे जिनसे देश को अवश्य ही बड़े पैमाने मे लाभ होगा 
               सूर्य के मेष राशि मे प्रवेश वाले दिन के स्वामी को वर्ष का मंत्री माना जाता हैं इस वर्ष सूर्य 14/4/2017 को रात्रि 2ः04 बजे मेष राशि मे प्रवेश करेगा क्यूंकी हिन्दू तिथि सूर्योदय से बदलती हैं इसलिए इस वर्ष का मंत्री गुरु बनेगा द्य गुरु नवमेश व द्वादशेश होकर वक्री अवस्था मे छठे भाव मे बैठा हैं जो दसम भाव व द्वादश भाव के अतिरिक्त दूसरे भाव को व उसके स्वामी शुक्र को भी देख रहा हैं जिससे सरकार द्वारा फाइनेंस व बैंकिंग सेक्टर मे किसी बड़े बदलाव का होना निश्चित होता दिख रहा हैं संभव हैं की वर्ष 2017-2018 मे सरकार टैक्स दरो मे बड़ी राहत प्रदान करने के साथ साथ कुछ नए बैंक भी खोले अथवा कुछ का राष्ट्रीयकरण करे जिससे बैंकिंग क्षेत्र मे उछाल आने से विस्तार होगा तथा नई नौकरिया पैदा होंगी जो बैंको को ब्याजदारों मे कमी करने पर मजबूर करेगा जिससे देश के आम आदमी को बहुत राहत प्राप्त होगी तथा निर्माण क्षेत्र मे भी विस्तार होगा 
               गुरु मंत्री के रूप मे नवमेश व द्वादशेश होकर इस वर्ष दसम भाव व द्वादश भाव को दृस्टी दे रहा हैं दसम भाव जो की देश के राजा का होता हैं उसका स्वामी शनि नवम भाव से राजयोग निर्मित कर गुरु को दृस्टी देकर देश के राजा अर्थात प्रधानमंत्री मोदी को किसी बड़े अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार की प्राप्ति बता रहा हैं ऐसा जून-जुलाई अथवा सितंबरदृअक्तूबर मे हो सकता हैं वही नवांश मे भी यह गुरु दसम भाव मे ही स्थित हैं जो सरकार का न्याय व्यवस्था अथवा सर्वोच्च न्यायालय से धर्म अथवा तीर्थ आदि से संबन्धित किसी प्रकार का विरोध व तनाव करवाना निश्चित कर रहा हैं 
             स्वतंत्र भारत की कुंडली से देखे तो इस पूरे वर्ष भारत चन्द्र मे राहू की अंतर्दशा मे रहेगा चन्द्र भारत की पत्रिका मे तीसरे भाव मे स्वराशी का होकर संचार व खेल जगत मे भारत के लिए सुखद भविष्य बता रहा हैं वही राहू लग्न मे स्थित होकर राजनीतिक व संचार जगत मे भारत का लोहा पूरे विश्व मे मनवाने की पुष्टि कर रहा हैं राहू क्यूंकी शुक्र की राशि मे हैं तथा शुक्र देश का लग्नेश होने के साथ साथ महिलाओ का प्रतिनिधित्व भी करता हैं स्पष्ट हैं की देश की आधी आबादी अर्थात महिलाओ के लिए यह वर्ष कुछ खास उपलब्धियों वाला रहेगा द्य चन्द्र व राहू मे 3/11 का संबंध हैं जो ज्योतिषीय दृस्टी शुभ संबंध कहा जाता हैं 
             संक्षेप मे कहें तो क्यूं की इस वर्ष के राजा बुध व मंत्री गुरु बन रहे हैं जो की ज्योतिषीय दृस्टी से शुभ ग्रह माने व समझे जाते हैं अतः यह वर्ष भारत के लिए अच्छी वर्षा व फसलों की भारी पैदावार होने से विशेषकर लाभदायक साबित होगा तथा देश इस वर्ष कई मामलो मे तेजी से तरक्की की और अग्रसर होगा 
Edited by: Editor

आपके विचार

हिंदी में यहाँ लिखे
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान


ऐसा भी होता है?

धार्मिक स्थल

 
Editor In Chief : Dr. Umesh Sharma
Copyright © Asha News . For reprint rights: ASHA Group
My Ping in TotalPing.com www.hamarivani.com रफ़्तार www.blogvarta.com BlogSetu